My teachers's image
0 Bookmarks 189 Reads0 Likes

डांट सुनी है आपसे बहुत बार

तो कभी शाबाशी भी पाई है

आपकी दी शिक्षा

जिंदगी के हर मोड़ पर काम आई है

अपने बच्चों जैसा समझा आपने सभी को

सभी को अपने गले से लगाया है

कभी खूब हंसाया हमें

तो कभी खूब रुलाया है

भले ही डांटा या फटकारा हो हमें

पर हमेशा हमारा भला ही चाहा है

जिंदगी के इस सफर में हमें बहुत कुछ सिखाया है

काश मैं हमेशा आपका स्टूडेंट बना रहता

और आप हमेशा मुझे पढ़ाते

काश फिर से आपकी क्लास होती

और हम हमेशा की तरह लेट आते

भगवान को देखा तो नहीं मैंने

पर शायद आप जैसे ही होते होंगे

जो डांट कर भी हमारा भला ही चाहते होंगे

जिंदगी के सफर में फिर से आपकी याद आई है

डांट सुनी है आपसे बहुत बार

तो कभी शाबाशी भी पाई है


   दीपक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts