ज़िन्दगी : मेरे नजर में's image
Love Poetry1 min read

ज़िन्दगी : मेरे नजर में

Deepak ThakurDeepak Thakur June 16, 2020
Share0 Bookmarks 90 Reads0 Likes

जो सबक आप किताबों से नहीं सीख पाते,

वो सबक आपको ज़िन्दगी सीखा देती है ।

कभी रुला के ...... हँसा देती है ,

कभी हँसा के भी ...... रुला देती है ।

कहने को ज़िन्दगी एक अदाकारी है,

उम्र दर उम्र आपको कलाकार बना देती हैं ।

जीवन है तो सुख-दुख , आशा-निराशा भी है

ज़िन्दगी हमे फिर भी जीना सीखा देती है ।

जो सबक आप किताबों से नहीं सीख पाते,

वो सबक आपको ज़िन्दगी सीखा देती है ।

       ----- दीपक ठाकुर ✍️    

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts