Bijli kadakana's image
Share0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

मुझे बिजली के कड़कने से डर सा लगता था

कुछ यूं मुझे वो डरने से बचा लिया करती थी ।

बेचैन सी होके मेरे करीब आकर बैठ जाती

और बाहों में कसकर भर लिया करती थी ।

मैं इसी आस में आसमान की ओर देखता रहता ,

क्या ये कड़कड़ाहट कुछ पल और नही ठहर सकती थी ।



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts