स्कूल का इकतरफा प्यार's image
Poetry1 min read

स्कूल का इकतरफा प्यार

Surendra PanchariyaSurendra Panchariya December 26, 2022
Share0 Bookmarks 23 Reads1 Likes
पहली बार देखा
कक्षा में
नज़र ना मिली 
या यूँ कहूँ
मेरी आँख तक ना उठी

हाल यह मेरा 
अब कुछ रोज़ रहा 
एक पहल उसने की
बहाना कॉपी का ही बना

मैंने भी कांपते हाथों से सही
हिम्मत कर नाम पूछ ही लिया
दिनों-दिन यही चलता रहा 
आँखे मिलती
 मुस्कुराहट के बाद नजरें झुक जाती

आख़िर इम्तिहान आ गए
मैं मशरूफ़ और वो भी
इस बोर्ड जो ठेहरी 
ना मिली नज़रें 
ना मुस्कुराहट आई 

ना कभी मुलाकात
ना बात-फ़रियाद
यह स्कूल का इकतरफा प्यार
बस ख़यालों तक ही रह गया
उसके और मेरे 

   -- सुरेन्द्र पंचारिया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts