आज का इन्सान's image
1 min read

आज का इन्सान

csharma001csharma001 June 16, 2020
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes

कैसा असंवेदनशील सा हो रहा है जग,

कैसे सुन्न से बन रहे हैं लोग,

ये कैसी दुनिया है, जाने किस सांचे में ढाल रहे हैं लोग,

ना ग़ैरों के लिए संवेदना है दिल में, 

ना अपनों के लिए प्यार,

मर रही है मानवता या जाग रहा है पिशाच,

हर तरफ़ तो बस भावहिन पूतले हैं,

किसी के दुःख तक़लीफों से किसी को मतलब नहीं यहां,

गुम सी है इन्सानीयत, ना जाने इन्सान हैं कहां,

ना जाने ये किस प्रगती-पथ पर अग्रसर हैं हम,

अपरिपक्व सा मन और असहिष्णु से भाव लिए, 

आगे ही आगे चल रहे हैं लोग,

ना अपनों के लिए प्यार, ना ग़ैरों के लिए संवेदना,

 ना जाने किस सांचे में ढल रहे हैं लोग ।।।

  \\चंचल शर्मा\\





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts