भ्रमित मानव's image
1 min read

भ्रमित मानव

Chaman lal BhardwajChaman lal Bhardwaj October 30, 2021
Share0 Bookmarks 10 Reads1 Likes
भ्रमित मानव 
जीवन की डगर काँटों का भँवर 
मंजिल की दूरी चलना है जरूरी 
डगमगाए कदम लड़खड़ाई जुबान
 बिखरा हुआ दिखता  हर इंसान

हिंसा की लहर नफरतों का जहर
 बढ़ता जा रहा अलगाव का कहर
संतोष का अभाव शान्ति की कमी
दिखती  नहीं अब अपनत्व की नमीं

भ्रमित है जीवन कपट भरा मन 
कमजोर है दृष्टि शिथिल हुआ तन 
अहंकार भरी है  धधकी ज्वाला 
समझे निज को जग रखवाला

कुंठित आराधना शून्य हुई भावना 
दम्भित मन से भगवत को साधना अपनापन खोया जीवनभर रोया 
फल वही पाया जो था बोया 

                                                                  चमनलाल भारद्वाज

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts