छात्र कविता नहीं अपना यथार्थ लिखता है's image
World Poetry DayPoetry2 min read

छात्र कविता नहीं अपना यथार्थ लिखता है

Chetan kumar karnChetan kumar karn March 21, 2023
Share0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

छात्र कविता नहीं अपना यथार्थ लिखता है

अपने सपनों के खातिर वो अपनो को पीछे छोड़ आता है

नए शहर के छोटे से कमरे को वो आशियाना बनाता है

घर पर आलीशान बिस्तर पर हमेशा सोने वाला

अब नए शहर में कठोर ज़मीन पर करवटे बदलता है

छात्र कविता नहीं अपना यथार्थ लिखता है


घर के स्वादिष्ट खाने में हमेशा नुक्स निकालने वाला

आज सिर्फ कच्चे चावल-रोटी खा कर सो जाता है

10 बजे उठने वाला अब चिड़ियों से भी पहले जाग जाता है

सुबह उठकर हर रोज अनेक समस्याओं से छात्र टकराता है

फिर भी सबसे मुस्कुराकर अपना दर्द छिपता हैं

छात्र कविता नहीं अपना यथार्थ लिखता है।



हर रोज़ कलम उठाकर क्रांति करने का प्रण ये छात्र लेता है

पर पढ़ते-पढ़ते अपने भविष्य की चिंताओं में खो जाता है

कब तक घर से पैसे लेगा ये सोच वो विकल हो जाता है

एक नौकरी पाने के खातिर छात्र हर रोज जोर लगता है

छात्र कविता नहीं अपना यथार्थ लिखता है।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts