बेटी जब शादी के मंडप से ससुराल.....'s image
Story2 min read

बेटी जब शादी के मंडप से ससुराल.....

Chaudhary Rohit Singh YadavChaudhary Rohit Singh Yadav January 12, 2023
Share0 Bookmarks 34 Reads1 Likes
नहीं चाहिए हिस्सा भइया मेरा मायका सजाए रखना,
कुछ ना देना मुझको 
बस प्यार बनाए रखना,
पापा के इस घर में 
मेरी याद बसाए रखना।
बच्चों के मन में मेरामान बनाए रखना ,
बेटी हूँ सदा इस घर की
ये सम्मान सजाये रखना।
बेटी से माँ का सफ़र (बहुत खूबसूरत पंक्तिया, 
सभी महिलाओ को समर्पित)
बेटी से माँ का सफ़र बेफिक्री से फिकर का सफ़र रोने से चुप कराने का सफ़र उत्सुकत्ता से संयम का सफ़र।
पहले जो आँचल में छुप जाया करती थी,
आज किसी को आँचल में छुपा लेती है।
पहले जो ऊँगली पे गरम लगने से घर को सर पे उठाया करती थी,
आज हाथ जल जाने पर भी खाना बनाया करती है।
पहले जो छोटी छोटी बातों पे रो जाया करती थी,
आज बो बड़ी बड़ी बातों को मन में छुपाया करती है।
पहले भाई, दोस्तों से लड़ लिया करती थी।
आज उनसे बात करने को भी तरस जाती है।
माँ-माँ कह कर पूरे घर में उछला करती थी।
आज माँ सुन के धीरे से मुस्कुराया करती है।
10 बजे उठने पर भी जल्दी उठ जाना होता था, आज 7 बजे उठने पर भी लेट हो जाया करती है।
खुद के शौक पूरे करते करते ही साल गुजर जाता था।
आज खुद के लिए एक कपडा लेने को तरस जाया करती है।
पूरे दिन फ्री होके भी बिजी बताया करती थी।
अब पूरे दिन काम करके भी काम चोर कहलाया करती है।
एक एग्जाम के लिए पूरे साल पढ़ा करती थी।
अब पढ़ाई रुक जाती है।

"यह हमारी आपकी बेटी है।"

~ चौधरी रोहित सिंह यादव।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts