बेटी जब शादी के मंडप से ससुराल.....'s image
Story2 min read

बेटी जब शादी के मंडप से ससुराल.....

Chaudhary Rohit Singh YadavChaudhary Rohit Singh Yadav January 12, 2023
Share0 Bookmarks 51 Reads1 Likes
बेटी जब शादी के मंडप से ससुराल जाती है तब पराई नहीं लगती मगर जब वह मायके आकर हाथ मुंह धोने के बाद सामने टंगे टाविल के बजाय अपने बैग से छोटे से रुमाल से मुंह पौंछती है, तब वह पराई लगती है।
जब वह रसोई के दरवाजे पर अपरिचित सी खड़ी हो जाती है, तब वह पराई लगती है।
जब वह पानी के गिलास के लिए इधर उधर आँखें घुमाती है, तब वह पराई लगती है।
जब वह पूछती है वाशिंग मशीन चलाऊँ क्या तब वह पराई लगती है।
जब टेबल पर खाना लगने के बाद भी बर्तन खोल कर नहीं देखती तब वह पराई लगती है।
जब पैसे गिनते समय अपनी नजरें चुराती है तब वह पराई लगती है।
जब बात बात पर अनावश्यक ठहाके लगाकर खुश होने का नाटक करती है तब वह पराई लगती है.....और लौटते समय "अब कब आएगी" के जवाब में "देखो कब आना होता है" यह जवाब देती है, तब हमेशा के लिए पराई हो गई ऐसे लगती है।
लेकिन गाड़ी में बैठने के बाद जब वह चुपके से अपनी आखें छुपा के सुखाने की कोशिश करती है तो वह परायापन एक झटके में बह जाता तब वो पराई सी लगती है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts