मेरा परिचय मेरी कविता.....'s image
Poetry3 min read

मेरा परिचय मेरी कविता.....

Abhishek ChaturvediAbhishek Chaturvedi May 9, 2022
Share0 Bookmarks 151 Reads1 Likes

मेरा परिचय मेरी कविता के कुछ पद्य।
                        1
जग ने पूछा कौन व्यथित हैं,
                            प्रश्न प्रश्न प्रति प्रश्न हुआ।
प्रश्नो की प्रतिध्वनि से झंकृत,
                            उपनिषदों सी बोली कविता।
                           2
चलो आज तुम साथ हमारे,
                            उथलेपन से गहराई में।
लिखो आज कुछ गुणन भाग फल,
                         जोड़ घटाने वाली कविता।।
                            3
वेद ऋचाओं सी वह आयी,
                             मैं विषयी विष पोषण में।
तोषण की तत्परता का ,
                           परिणाम बताने आयी कविता।।
                          4
कौन कहां कैसे कैसे कब,
                            कारण वारण हेतु रहा।
कठिन द्वन्द विस्मित मय मन में,
                           मुर्हु मुर्हु मुरझायी कविता।।
                            5
बीत गया सब शून्य शेषमय,
                            नींद स्वप्न सहलाने में,।
  सम्बन्धो की परिभाषा का ,
                             सत्य बताने आती कविता।।
                                 6
कहने को तो बहुत है लेकिन,
                              कहने से अब क्या होगा,।
बिना कहे ही काम चलाओ,
                               यही मुझे समझायी कविता।।
                              7
समझो समझदार होने का,
                                दम्भ पालना घातक है।
यही समझ हर समझदार को,
                                  बार बार समझायी कविता।।
                               8
बेरे बेटे मेरे अपने,
                                 अपने में मैं ढूढ़ रहा।
अपनों में अपनों का अन्तर,
                                 अर्थ सहित समझायी कविता।।
                              9
पाचक और अपाचक सारे,
                                पाठ पढ़ाकर चले गये।
घाव पीठ के खोल खोल कर,
                            सबको मत दिखलाओ कविता।।
                             10
छोटे और बड़े होने का ,
                                अन्तर भेद बताने को,
  एक बीज में छिपे वृक्ष का,
                                 तथ्य सही समझायी कविता।।
                            11
बचपन गया बोलकर यौवन,
                                 तुम पुरुषार्थ पूर्ण रहना।
बूढ़ेपन के गूढ़ ग्रंथ में,
                               लिखी मिलेगी सबकी कविता।।
                             12
जिसके मन में सबल मन्थरा,
                             हुयी अयोध्या अबुध अनाथ।
राम राम रट पार करो अब,
                                 तेरी यही कहानी कविता ।।
                               13
नव पल्लव के लिए प्रकृति ने,
                                त्याग पुराने पात दिए।
हर बसन्त में कठिन सृष्टि का,
                            सत्य हमें समझायी कविता।।
                          14
करवाने वाला है कोई,
                           करने वाला है दण्डित,
भाग्य कर्म सब अपना अपना,
                          यही मर्म समझायी कविता।।
                          15
बूॅंद शेष अन्तिम है बाती,
                       चलने का त्योहार यहां।
धुॅंआ धुॅंआ जीवन की आशा,
                            परिभाषा समझायी कविता।।
                              16
आंखो से कुछ अश्रु गिरे जो,
                               जो अपना मूल्य बताने को।
पलको ने दण्डित कर डाला,
                               कीमत यही चुकायी कविता।।
                             17
सम्बन्धो के अनुबन्धों से
                              अनुरागो के पुष्प खिले।
प्रतिबंधित है फल की आशा,
                                है कैसी यह जीवन कविता।।
                            18
हाकिम अपना करें फैसला 
                               प्रकरण हैं गम्भीर बहुत।
 पक्षकार की पीड़ाओ में,
                              रात रात भर रोयी कविता।।
                          19
जब से बोल गयी है मैना,
                          साहब के गलियारे में।
दिल की धड़कन नाप रही है,
                      रक्त चाप सी मेरी कविता।।
                                  20
 जिसने भी कुर्सी के खातिर,
                          गद्दारो के पैर छुए।
नही रहेंगे इतिहासों में,
                         नही रहेगी उनकी कविति।।
                            21
मंत्र जाप मंत्री की छाया,
                 माया से काया का मोह।
पूर्ण अंक में दिया परीक्षा,
                    शून्य अंक में आयी कविता।।
डा ओमप्रकाश मिश्र व्यथित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts