यह प्यार भी अजीब है 's image
Poetry1 min read

यह प्यार भी अजीब है

charu Mohancharu Mohan June 16, 2022
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes
आज फिर ऐसा हुआ , मैं देखती रही

और वो सामने से गुजर गया

फिर ना जाने क्यों, मुड़ कर देखने लगा

कहता है " तुमसे प्यार नहीं है "

" इश्क विश्क पर ऐतबार नही है "

फिर क्यों उतरता है आज उसकी

आंखो में लहू  ,,,,,,

जब दिल मेरा किसी और से मिल रहा है

यह प्यार भी अजीब है

जिसे जितना चाहो , वो उतना ही दूर है

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts