कुछ दिल से 's image
Share0 Bookmarks 30 Reads0 Likes
वो बेपरवाह थी
और हम परवाह कर बैठे
हाय ! मिला कुछ भी नहीं
बस खुद को तबाह कर बैठे

❣️❣️❣️❣️❣️❣️❣️❣️

जिसकी तलब  थी , बस एक 
वो " मय "  ही ना मिली,,,,,,,
यू तो सफर में मयखाने बहुत मिले

बहुत मिले मुझको मेरे तलबगार 
जो मुझे मेरी नजर से देखे ,,,,,,
वही नजर रखने वाले नही मिले 

❣️❣️❣️❣️❣️❣️❣️❣️❣️

मेरे खिलाफ आपकी साजिशें बेकार है
मैं , अपने खुदा की निगरानी में हूं 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts