खबर न हुई's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes
जो अपने हिस्से का रो चुके हैं
वो अब पत्थर हो चुके हैं,
उन् को  खबर न हुई

कब वो उठ कर रकिबो में बैठ गया
उसके एहसासों में ऐसा खोई,
मुझ को खबर न हुई

जिसे इश्क समझ रही थी अब तक
वो जख्म कब रिसने लगा
मुझ को  खबर न हुई

उसके झूठ बोलने के अंदाज पर मैं
अपना सच वारी कर गया,और
उस को  को खबर न हुई

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts