एक प्रार्थना मेरे कृष्ण से's image
Poetry1 min read

एक प्रार्थना मेरे कृष्ण से

Brijesh ChaturvediBrijesh Chaturvedi January 7, 2023
Share0 Bookmarks 51 Reads0 Likes

यौवन की वो उमंगें, उठती हुई तरंगें

सब शांत हो रहीं हैं, अब उम्र ढलते-ढलते


आए थे क्यू जहाँ में? जाएँगे भी क्या लेकर?

जागा हुआ है ख़ौफ़, ये एहसास पलते-पलते


ओढ़ी हुई है चादर इस रूह ने बदन की

यह उम्र बीत जानी है लिबास जलते-जलते


ये लोक ना सँवारा, परलोक भी बिगाड़ा,

अब क़ाफिला उठेगा, यूँ ही हाथ मलते-मलते


सब आस भी तू ही है, विश्वास भी तू ही है

मेरी बिगड़ी तो बना दे, ये श्वास खलते-खलते


कर मोर-पंख वाले!! कुछ इंतज़ाम ऐसा

आ जाए मेरे मुख पे तेरा नाम चलते-चलते


मेरी रूह समा जाए, तेरी रूह में पियारे

करुणा तेरी फल जाए, मेरे कर्म फलते-फलते 


-ब्रजेश

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts