आह जवानी !'s image
Share0 Bookmarks 133 Reads0 Likes
आह जवानी !
तु क्यो खुदको व्यर्थ गवाती है ? 
अरे हाँ , वासना , डर , लालच
तुझे अभी ही तो लुभाती है ,
ये जंग है समुद्र की भांति ,
ना यहां वक्त का पता है ,
ना यहां दिल किसी का लगा है ,
पा ले तु खुदको ही ,
पा लेने का ज्ञान रुक मत जाना तु ,
भर उडाना ,
गर्म जोश नही शांत होश ला खुदमे  ,
मिलेगी जीत हौसला गिरे नही,
चढ़ते जाना जब तक अंतिम सीढ़ी न हो 
बस कोई हार आखीरी न हो
बस कोई हार आखिरी न ही 
आह अवानी !
तु प्रकाश को पा
खुद को पाकर तु मीट जा
 जी - ले तु एक पल ,
किसने देखा अगला कल
    आह जवानी
               तु मीट जा
                    आह जवानी
                            तु उड़ जा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts