कौन कहता है बेवश तुझे....'s image
Poetry2 min read

कौन कहता है बेवश तुझे....

Bikash ChandraBikash Chandra March 8, 2022
Share0 Bookmarks 31 Reads0 Likes

महिला दिवस के अवसर पर मेरी स्वरचित कविता प्रस्तुत है:-                                    शीर्षक:- कौन कहता है बेवश तुझे.....                            कौन कहता है बेवश तुझे और कब तुम किससे हारी है। मत समझ खुद को अबला, तुमसे ही यह दुनिया सारी है।                                         प्रलय जब भी हुआ है ब्रम्हाण्ड में और जब जब भी हुआ है अत्याचार।                               ढाल बन तुम तब देवी रूप में अवतरित होकर सबका किया बेड़ा पार।                             कौन कहता है बेवश तुझे .......               माँ,पत्नी, बेटी, बहु, बहन के रूप में तुमने हर रिश्ते को बखूबी निभाया है।                              सहनशीलता, दया, क्षमा, करूणा तुमने हर रूप में प्रेम  छलकाया है।                                       तुम बिन जग की क्या कल्पना, तुमसे ही यह श्रृष्टि जानी जाती है।                                     माँ बन ममत्व प्रदान कर, पुरूषों का काया तुम ही सबल बनाती है।                                                            कौन कहता है बेवश तुझे... .                     चाहे विज्ञान हो, या हो चिकित्सा, या सीमा पर देना कोई इम्तिहान हो।                                 सर्वत्र लहराती हो पताका तुम, क्यों न वो खेत हो या खलिहान हो।                                  कौन कहता है बेवश तुझे, और कब तुम किससे हारी है। मत समझ खुद को अबला, तुमसे ही यह दुनिया सारी है।                                   नाम- बिकास चन्द्र सिंह, देवघर( झारखण्ड)। मोबाइल  संख्या- 8789487457.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts