मनुष्य's image
Share0 Bookmarks 43 Reads0 Likes
जब मनुष्य 
मनुष्य के लिए
नहीं जीता,
और मनुष्य
मनुष्य के लिये
नहीं मरता,
तो प्रकृति के
सभी समीकरण 
बिगड़ जाते हैं।

           -भारती

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts