पतंग हमारी's image
Share1 Bookmarks 279 Reads4 Likes

पतंग हमारी कितनी प्यारी

जीवन के रंग समेटे सारी

डोर सजनी तेरे हाथों में

उड़ाना जरा संभाल के

छूट न जाए कहीं डोर तेरे हाथ से

यूं ही उड़ता रहे पतंग हमारा अभिमान से

छूना है इसे आसमान कविता हमारे प्यार में


सजना पतंग हमारी

प्राण से है मुझको प्यारी

इसमें डोर है विश्वास की

कटेगी नहीं साजिसों से

छुएगा आसमान पतंग हमारा

बनेगा उदाहरण प्यार हमारा

गर्व से कहती हूं तू कवि मेरा

मैं कविता तुम्हारी

जान से प्यारी पतंग हमारी

~ भरत सिंह


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts