आ एक दिन समेट के मर जाते हैं,
कौन करें देखभाल रोज़ इन तन्हाई कि..'s image
Love PoetryPoetry1 min read

आ एक दिन समेट के मर जाते हैं, कौन करें देखभाल रोज़ इन तन्हाई कि..

Bhadresh DesaiBhadresh Desai November 30, 2021
Share0 Bookmarks 18 Reads0 Likes
आ एक दिन समेट के मर जाते हैं,
कौन करें देखभाल रोज़ इन तन्हाई कि..

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts