हम बदल नहीं सकते's image
Poetry PagesPoetry1 min read

हम बदल नहीं सकते

Bechain SinghBechain Singh October 24, 2022
Share1 Bookmarks 24 Reads1 Likes



बदलना चाहकर भी हम बदल नहीं सकते, 

अकेले भी तो हम चल नहीं सकते, 


साथ दो या न दो ये तुम पर है बेचैन, 

गलत राह पर हम चल नहीं सकते |

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts