बड़ा याद आवयलू's image
Share0 Bookmarks 31 Reads1 Likes


जबसे गयलू गोरिया नइहर, बड़ा याद आवयलू,

आके सपनवां में हमके काहें सतावयलू,

मन नाही लागे हमार अबत कौनो काम में,

तोहरे सूरत लउके हमके अबत सुबह शाम में,

जबसे गयलू गोरिया नइहर, बड़ा याद आवयलू,

आके सपनवां में काहें हमके सतावयलू,

        

       जब रहीं तोहरे पास बड़ा बिजी रहयला, 

          चल जइतू नइहर हमके हर घडी कहयला,

          अब रहा हमरे बिन जल्दी हम न आइब हो,

          जइसे सतावयला हमके, हमहूँ सताइब हो, 

          जब रहीं तोहरे पास बड़ा बिजी रहयला, 

          चल जइतू नइहर हमके हर घडी कहयला,



याद आवय धनिया तोहार हमके दिन रात हो,

मन नाहीं भरय चाहे करीं केतनों बात हो, 

तोहरे बिन अबत हमके जियल नाहीं जात हो,

दिन रखवादा आवय क जल्दी केइके बात हो,

जबसे गयलू गोरिया नइहर, बड़ा याद आवयलू,

आके सपनवां में हमके काहें सतावयलू,



याद आवय राजा तोहार हमके दिन रात हो,

मन नाहीं भरय चाहे करीं केतनों बात हो, 

. तोहरा से रजउ दुःख हमके ज्यादा ह,

तोहरे ही साथे जिये मरे के इरादा ह, 

जल्दी से आजा हम चले के तैयार हईं,

. एक जनम का सातों जनम के तोहर हईं, 


“बेचैन”

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts