ज़माना's image
Share0 Bookmarks 20 Reads0 Likes
ज़माना समेटने लगा है जो मिल रहा है,
और एक हम है कि कहीं बिखरे पड़े है।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts