क़िस्मत's image
Share0 Bookmarks 48 Reads0 Likes
अपनी क़िस्मत को लुहलुहान होते नही देख सकता,
मैं तुम्हें किसी गैर को जान कहते नही देख सकता।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts