क़यामत का दिन's image
OtherPoetry1 min read

क़यामत का दिन

AZAD MADREAZAD MADRE January 13, 2022
Share0 Bookmarks 7 Reads0 Likes
हमें यक़ीन है क़यामत के दिनपर मगर,
उससे बिछड़ने का दिन भी कम ना था।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts