मुस्कुराना's image
Poetry1 min read

मुस्कुराना

AZAD MADREAZAD MADRE February 21, 2022
Share0 Bookmarks 21 Reads0 Likes
अब जबकि पूरा लूट चुका है ये दिल,
उसका मुस्कुराना समझ आ रहा है।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts