किराये के क़ातिल's image
Poetry1 min read

किराये के क़ातिल

AZAD MADREAZAD MADRE March 5, 2022
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes
तू खुद आ जा वरना ये तो होने से रहा,
कि हमें मार दे ये किराये के क़ातिल।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts