हिसाब के दिन's image
Poetry1 min read

हिसाब के दिन

AZAD MADREAZAD MADRE May 31, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
साफ़साफ़ पूछुंगा उसकी मजबूरियां उससे,
मैं हिसाब के दिन ज्यादा बात नही करूँगा।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts