हक़ीक़त's image
Share0 Bookmarks 67 Reads0 Likes
सर पे धूप बढ़ रही है जैसे जैसे,
रात का ख़्वाब मरता जा रहा है।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts