बुरा वक़्त's image
Poetry1 min read

बुरा वक़्त

AZAD MADREAZAD MADRE May 31, 2022
Share0 Bookmarks 10 Reads0 Likes
अपनों में तन्हा और परायों से भागता हुआ मैं,
ऐ मेरे बुरे वक़्त तेरे आने से देख क्या हुआ मैं।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts