मां's image
में छोटा था
उसने हर ज़िद मनवा के दी
जब मैंने चांद मांगा
'मां' ने गोल रोटी बना के दी
             
                आवाज़-ए-तृष्णा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts