उन नज़रों को खत्म करना होगा।'s image
Kumar VishwasPoetry4 min read

उन नज़रों को खत्म करना होगा।

Avish DattAvish Datt August 11, 2022
Share0 Bookmarks 11 Reads0 Likes

बहुत दूर थी मैं खड़ी, उन नज़रों से।

फिर भी न जाने क्यों ये महसूस हुआ,

मानो मेरी आबरू से कही, खिलवाड़ हो रहा।

मैं ओझल हो आईं, कही बड़ी मुश्किल से,

मगर रूह मेरी अब भी कपकपा सी रहीं हैं।




घर से निकलते ही अब, हर नज़र,

उन नज़र की ही, हमशक्ल नज़र आती हैं।

कही आस पास ही मेरे, उन नज़रों का पहरा है।

भीड़ में चलूं, या फिर रहूं मैं एकांत,

लगता हर पल रहता मुझपर,वो अपनी नज़रे गड़ाए।




वो नज़र हर बार..... 

मुझे देखती नहीं थी। बल्कि,

वो घूर घूर के मेरे जिस्म को, 

छलनी किया करती थीं।

अपने आईने में भी मुझे,अब

वो नज़रे दिखाई देने लगीं। 

किससे करू बया, ये खौफ अपना,

अब तो अपनों में भी,

उन नज़रों की परछाईं दिखाई देने लगी।




एक दिन, एक हिम्मत लिए, उन नज़रों को,

मैने "खुद जैसी" बहुतों से, रूबरू करवाया।

मगर उन बहुतों से सिर्फ मुझे,

मेरे बदन ढकने का सुझाव आया।




मैं ओढ़ के उन, बहुतों के सुझाव को,

फिर से घर से निकलने लगीं।

मगर वो नज़रे मुझे वहीं खड़ी मिली,

मैं बच निकली उन नज़रों से उस दिन,

फिर देखा वो नज़रे तो, कही और वार कर रही।

शिकारी बन हर बार नए निशाने से,

कई आबरुओ को ताड़ ताड़ कर रहे।




वो देख सब कुछ मैं, सहम सी गई।

उनकी मदद के लिए, एक तोहफ़ा लेके गई।

एक सीख जो मिली थी, सुझाव में मुझे,

वो समझ के एक कारगर सोच, मैं उनको देने लगी।




फिर कही खुद में बैठकर, मैं बहुत खुश हो रही थी।

वो उपहार जो बहुतों से मिला था मुझे,

आज उसने कई जिस्मों की नुमाईसे रोक दी थी।




फिर एक दम से मेरी ही नज़र मुझसे बोल पड़ी।

कितनो के बदन ढक के तू, उन नज़रों से बचाएगी।

कहीं न कहीं वो नज़रे, 

फिर किसी और पे घात लगाए,उसे शिकार बनाएगी।




सबके बदन ढक कर, क्या उसकी नज़र ढक पाएगी?

सबकी सोच बदल कर, क्या उसकी नज़र बदल पाएगी?

मेरी रूह ने कहा नहीं, आबरू ने कहा नहीं।

मेरे जिस्म ने कहा नहीं, नज़र ने कहा नहीं।




ये जानकर मैंने ठाना, और असल खुद को पहचाना।

अब उन नज़रों को ही, नज़रबंद होना होगा।

अब उन नज़रों को ही, अंधेरों से भरना होगा।

अब उन नज़रों को ही, उनकी ही नज़रों से मिलना होगा।




उन नज़रों ने, न जाने कितने जिस्मों के,

कितने आकार बनाए होंगे।

न जाने कहा कहा, किस किस को,

कितने ही आबरू के, किस्से सुनाए होंगे।




अब हर एक उन नज़रों को हर्जाना भुगतना होगा।

इन हैवान नज़रों को, भस्म हो जाना होगा।

वो जो कभी गलती से भी, मेरी परछाईं को भी छुई।

उसी पल में ही उसका, सर्वनाश करना होगा।




अब सुझाव नही, कोई सीख नहीं।

मैं चलता फिरता कोई चलचित्र नहीं।

मैं हूं इस जगत में, अस्तित्व तब तेरा है, 

मेरी मर्जी बिना तू कुछ नहीं,

कई दर्द सहकर तुझे ये संसार दिया है।




मुझ लिए नज़र में तेरी, अगर कोई खोट हुआ,

सगा होकर भी फिर, सिर्फ तेरा अंत होगा।

तू न सही जीवित,कईयोको दुख होगा।

मगर तब एक रूह जिएगी खुलकर कही,

एक परिवार चलेगा बैखोफ कही। 

एक समाज में, सभ्य इंसान बसेंगे।

भले ही चाहे लाखो, वो नज़रे जलानी पड़े।

उन नज़रों को खत्म करना होगा।




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts