पहले कभी's image
Share0 Bookmarks 30 Reads0 Likes
पहले कभी न थे ये मकान ये गलियां ये रास्ते ,
थे तो केवल गगन की सिकुर्ती बाहों को चूमते ये विशाल दरख़्त ,

न थी यहां ऊन की बुनी चादर ,
  न कोई बिछोने थे ,
थी तो केवल ज़मीन पर बिछी हरी घास ,

न थे पहले कभी ये किस्से जिन्हें तुम
  कहते हो लिखते हो ,
थी तो केवल वो हकीकत पर मली कुछ झूठी बात ,

न हम थे न तुम थे न थे हृदय के कूट भाव ,
   थी तो केवल गोविंद के होठों से निकली बांसुरी की मधुर राग ,

पहले न तो व्याकुल कान्हा थे न उनकी बांसुरी पे विरह का भार ,
 थी तो केवल रा धा रा धा के स्वर में झूमती वृंदावन की हर शाम ।

               – अविनाश जोशी ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts