अब कृष्ण नहीं आयेंगे's image
2 min read

अब कृष्ण नहीं आयेंगे

अविनाश जोशीअविनाश जोशी February 26, 2022
Share0 Bookmarks 55 Reads3 Likes
अब कृष्ण नहीं आयेंगे ,
   
अब कृष्ण नहीं आयेंगे प्रार्थना पत्र लेकर ,
 न ही अब इस और पांडव और उस और कौरव मिलेंगे ,

अब केवल और केवल शकुनी मिलेंगे ,
हर और तुम्हे षड्यांत के किस्से मिलेंगे ,
  न खेला जाएगा खेल चौषठ का ,
 नाही कोई द्रौपदी को दाव लगाएगा ,
   फिर भी वो ही युद्ध इस धरा पर होगा ,
    स्थान अलग पर रक्त ही बहेगा ,
  रह जायेंगे प्यासे हृदय ,
  व्याकुलता ये संसार सहेगा ,
   हर एक मनुष्य खुद को खोएगा ,
   एक की हठ में हर नर रोएगा ,

धरा पर केवल मृत्य देह मोलेंगे ,
वीरों के हाथो में ,
तलवारों के जगह दूसरे आभूषण सजेंगे ,
न कोई चक्रव्यू रचेगा  , 
फिर भी असहाय अभिमन्यु होगा ,

हैं वही भीषण युद्ध यहां ,
 दुबारा मही पर करण होगा ,
इस बार न अर्जुन रोकेंगे ,
न कृष्ण गीता के श्लोक खोलेंगे ,
न मिलेगी अब प्रेम की धार ,
केवल धोराएगा खुदको दुखद काल ,

मनुष्य पर फिर वो काल छाएगा ,
   महाभारत का ग्रंथ धरा रह जायेगा ,
 रह जायेगा दिनकर का काव्य ज्ञान ,
  बुद्ध फिर खुदको द्वार पर पाएगा ,

न राम आयेंगे न रावण गाएगा ,
शिव भी खुदको शांत पाएगा ,
  हर स्व धरा पर वंचित होगा ,
न जाने किन हाथों में वो प्राण खोएगा ,

अंधकार की छाया में ,
मनुज का मस्तक उछलेगा ,
 जिसने भी युद्ध को प्रबल कहा ,
वो सुर वीर दुःख लूटेगा ।

           – अविनाश जोशी ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts