मेरी ख़लिश's image
छोड़ दे गुमां, अपने हुस्न, दौलत और चाहत का,
हम आँखों की दहशत नहीं तेरी वहशत के क़ायल हैं।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts