मेरी ख़लिश's image
बैठ आँगन में घंटों तक़ आसमां निहारते हैं,
मेरा चाँद अब सारा जहां रोशन करता है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts