मनका's image
बीत रही है हमारी तो, हर रोज जिंदगी,
पर उन्हें तो अपनी, उसके साथ ही बितानी है,
इक रोज़ हाँथ पकड़कर, किया था सात जन्मों का वादा,
अब सात जन्मों की कहानी, चंद शब्दों में सुनानी है।
मेरा क्या ? हर सहर नया है, हर शब-ए-ग़ज़ल पुरानी है,
वही कथानक, वही नायिका, वही जीवन, वही मेरी कहानी है,
तेरा किरदार, मेरी वहशत, तुम्हारी याद तो हर रोज़ आनी है,
इस जनम में बस इतना ही, होंठों पर हँसी, आँखों में पानी है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts