बस इसलिए's image
विष हज़ारों पिये मैंने बस इसलिए,
हर पीर मैंने सही बस इसलिए,
है जमाना ख़राब, न छोड़ेगा उन्हें, जानकर गलतियां,
मौत अपनी ही चुन ली मैंने बस इसलिए।

कल तलक़ खाते थे क़समें हमारी बस इसलिए,
सिर्फ़ सौभाग्य कहा, न मष्तक पे सजाया हमें बस इसलिए,
मैं रूठ न जाऊं किसी बात पे, मैं रूठ न जाऊं किसी बात पे,
दुपट्टे को भी है आँचल बनाया बस इसलिए।

हर बात पे उनका हँसना बस इसलिए,
बेबात ही करते हैं रोना-धोना बस इसलिए,
जानते हैं वो मुझे, मेरी आदतों को,
मेरे होने से ही है, उनका होना बस इसलिए।

जो कहते थे/हैं, है तुमसे प्यार बस इसलिए,
हर बात पे करते थे/हैं, आंसुओं का व्यापार बस इसलिए,
इक रोज़ जब जाऊँगी छोड़कर, तुमको सदा के लिए,
यादों में भी होगा इंतजार बस इसलिए।

क्यूँ मुझे ही सताया बस इसलिए,
जानकर भी छुपाया बस इसलिए,
मेरे होते हुए भी किसी और के हो लिए,
हमने भी ख़ुद को समझाया बस इसलिए।

बीत गए हैं बरस कितने बस इसलिए,
न जान पाओगी हम भी हैं जी रहे किसलिए,
उस वक़्त जो इक बात कह न पाया उनसे,
रह गयी है वो बात अधूरी बस इसलिए।

कई रातों का हूँ जगा बस इसलिए,
आत्मा ने दिया है शरीर को दग़ा बस इसलिए,
जिनके प्रेम में बर्बाद किए मैंने कुछ वर्ष,
आज भी उसी प्रेम में हूँ लगा बस इसलिए।

मुझमें वो अब भी है आता-जाता बस इसलिए,
हर वक़्त हूँ मैं उन्हें गुनगुनाता बस इसलिए,
इक रोज़ क़भी जब याद आ जाए मेरी,
मैं उनकी आँखों से हूँ बह जाता बस इसलिए।

याद है जब उसने गले से लगाया बस इसलिए,
मष्तक पे मेरे अधरों को सजाया बस इसलिए,
सात जन्मों के वादे की बात की जिसने,
इक जन्म भी न साथ बिताया बस इसलिए।

मैं वर्षों तक करता रहा अभिमान बस इसलिए,
मेरे प्रेम को मिलता रहा सम्मान बस इसलिए,
इक दिल जो हार बैठे थे, हम उन पर कल,
आज तक न कर पाए अपमान बस इसलिए।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts