कशमकश's image
Share0 Bookmarks 23 Reads0 Likes

कहने को तो महफ़िल है

इसमें भी तन्हाई है

तेज़ चराग़ों के नीचे

एक घनी परछाई है


_अशरफ फ़ानी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts