क्षितिज, एक पड़ाव..'s image
MotivationalPoetry1 min read

क्षितिज, एक पड़ाव..

ASHOK UPRETIASHOK UPRETI November 15, 2021
Share1 Bookmarks 27 Reads1 Likes
मैं चला...
और चलता रहा..
बहुत बाधाओं को क्षत-विक्षत कर..
मैं निरतंर बढ़ता रहा..
और पहुँचा एक ऊँची जगह..
एक क्षितिज पर..
वो जगह..
जो लगती थी कभी सबसे ऊँची..
मगर जब पहुँचा..
मैं क्षितिज पर..
वहाँ दिखा मुझे एक नया संसार..
फिर जग उठी चाह..
देखने को नया संसार..

और मैंने जाना..
क्षितिज कोई लक्ष्य नहीं..
बस होता है एक पड़ाव..
जहाँ मिलते हैं..
नये लक्ष्य..
पाने को..
तथा, अपार संभावनाएं..
जीने को..

@अशोक_उप्रेती_ऐश्वर्य..✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts