ख्वाहिश's image
Share0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

मिलेंगे क्या फिर कही, यही सोचता हूं हर रात अब
यही एक ख्वाहिश है, जो चाहता की कभी पूरी न हो अब!!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts