पूंजीवाद's image
Share0 Bookmarks 31 Reads2 Likes
लाख करोड की आशा मे सर ज़मीं न धर जाये
भविष्य बनाने को ये कहीं जीते जी न मर जाये 
कुछ धन बच जाये तो, इनकी सुध भी लेलेना 
पौष्टिक हो न  हो पर तुम, एक निवाला देदेना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts