प्रकृति की न समझ सके तो..I's image
Kumar VishwasPoetry1 min read

प्रकृति की न समझ सके तो..I

ashish.kumarmomashish.kumarmom October 1, 2021
Share1 Bookmarks 36 Reads4 Likes

प्रकृति की न समझ सके तो..I

अपनी हसरत मत कहना ..II


एक वृछ न लगा सको तो..I

ठंढ़ी छाव से मत कहना ..II


सूर्य धूप से जूझ रही हो तो ..I

छत की हालत मत कहना..II


धरती जल बिन सूख रही हो तो..I

वादल से बरसो  मत कहना ..II


भू गर्भ जल नीचे जाये तो..I 

अपनी दहशत मत कहना ..II


अब भी गर न समझ सको तो..I

ऋतु कहर को मत कहना ..II


जहरी वायू से शांस रुके तो ..I

प्राण वायू से मत कहना ..II


गांव तलक ये कैसे पहूँची ..I

प्रकृति नफरत मत कहना ..II


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts