प्रभु प्रेम's image
Share1 Bookmarks 24 Reads3 Likes

बैठ अकेले अंतर्मन मे हिय 

क्यो निषदिन सोचे जाय 


बिन सींचे सिंच रही जो 

वो प्रतिदिन बढती जाय 

प्रेम बेल वट वृक्ष बनी 

हिये हजारो चित्र सजाय 


वार - वार यूँ तोड़ रहा मैं 

फिर-फिर ज़ड़ चेतन हो जाय 

प्रभु का मोहक रुप भला  

छल ह्रदय को छलता जाय 


तन बिचलित मन गंगन समाय 

बारम्बार प्रभु से दुया मनाय 

पूर्ण दुख तबही हर पाय 

जिस दिन हिय न रक्त बहाय 


प्रभु प्रेम ही प्रेम सिखाय 

ज़िसकी माया सबय सुहाय 

बैठ अकेले अंतर्मन मे हिय

फिर क्यो निषदिन सोचे जाय 


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts