नफरत जगाना's image
Share2 Bookmarks 52 Reads5 Likes

"बालक रग खून मे जो, विष खून रग मे मिला रही।

कल्युग माता बालक अपने, नफरत रिस्ते बना रही ।।

मातृ-पक्ष को छाडि बालक, पितृ पक्ष को डस जाय।

माता ममता मे खुद बालक, ऐसा जहर पिला रही"


भावार्थ:-

कुछ माताएं अपने बच्चों को इस प्रकार से ज्ञान दे रही हैं। कि पिता पक्ष के जो रिश्तेदार या परिवार के सदस्य है। जैसे चाचा ताऊ बुआ जो है वो तुम्हारा या तुम्हारे पिता का हित नही चाहते है। सिर्फ अपना स्वार्थ चाहतें है। तुम्हारे लिए उनके दिल मे कोई स्नेह नही है। सिर्फ तुम्हारे मामा मौसी नानी इत्यादि ही तुम्हारे भविष्य के बारे में सोंचते है इसलिये तुम केवल इन्ही लोगो से मतलब रखो।

पिता पक्ष से मतलब रखना तुम्हारे लिए घातक सिद्ध होगा।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts