चाहत भी बुरी चीज होती है यारो's image
Love PoetryPoetry1 min read

चाहत भी बुरी चीज होती है यारो

ashish.kumarmomashish.kumarmom October 3, 2021
Share1 Bookmarks 161 Reads3 Likes

चाहत भी बुरी चीज होती है यारो


चाहती उसे ही जो न चाहे इसे

चाहत भी बुरी चीज होती है यारो 

न कर सके दिल से दूर कोई 

अदृस्य भावनाओ में बहती यारो 


हम कर ले लाख कोसिसें मगर 

उसको दिल से जुदा न करती है यारो 

न जोर चलता है इसपे किसी का 

दरिया कि धार सी बहती यारो 


समझाता है दिल बारम्बार इसको 

फिर भी न समझ सी रहती है यारो 

करी कोसिसे हो जाती है बेकार

समुद्र को लहरों सी बहती यारो


जो चाहे इसे उसको न चाहेगी ये 

पड़ता न फर्क किसी बात से यारो 

चाह कर भी न छोड़ सकता कोई 

काल्पनिक विचारो में बहती यारो 


जैसे रहता डूबा मोती गहरे पानी में 

वैसे दिल कि दरिया डूब जाती है यारो  

खोजने से भी न खोज सकता है कोई

किसी की चाह मे ऐसे बहती है यारो


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts