सफ़र's image
तुझसा देखा ना ग़ाफ़िल ...
सफ़र में रवानी अब कहाँ? 
महज़ दिल बहलाने का ज़रिया है ,
वरना चाँद ,तारो में मोहब्बत की
 निशानी अब कहाँ? 
 जिंदा तो है यहाँ सब हुस्न वाली,
पर ज़िन्दगानी कहा ?   
आँखों में मोहब्बत का दरिया है,
पर दरिया में मोहब्बत का पानी कहा ? 
जिंदा हुँ लेकिन ज़िन्दगानी कहाँ?

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts