प्यार मुहब्बत's image
Poetry1 min read

प्यार मुहब्बत

Gaurav singh MeerGaurav singh Meer March 5, 2022
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes
प्यार-मुहब्बत ठीक नहीं है समझा कर
इसकी लज्ज़त ठीक नहीं है समझा कर

तू भी पागल ताजमहल बनवाएगा
इतनी वहशत ठीक नहीं है समझा कर

मत कर उसको याद मेरे दिल जाने दे
अपनी क़िस्मत ठीक नहीं है समझा कर

मुझसे खाली बात किया कर क़ुर्बत की
मुझसे क़ुर्बत ठीक नहीं है समझा कर

मत कर मेरे कहने से दरवाजे बंद
मेरी नीयत ठीक नहीं है समझा कर

हाथ पकड़कर एक नजूमी मेले में
बोला उल्फ़त ठीक नहीं है समझा कर 

Gaurav Singh Meer

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts