ग़ज़लें's image
Share0 Bookmarks 20 Reads1 Likes
ग़ज़ल-
.
इजाज़त हो सुनाऊँ यार ग़ज़लें
बदन के ज़ाविए पर चार ग़ज़लें

कई सौ शेर तन्हा हो गए और
ग़ज़ल के नाम पे बस चार ग़ज़लें

हमारा काम अच्छा चल रहा था 
हमें भी हो गई दुश्वार ग़ज़लें

हमारी ज़िंदगी में यूँ समझिए
निभाती हैं कई क़िरदार ग़ज़लें

लगाते हैं अभी जो प्यार की रट
कहेंगे एक दिन दीं-दार ग़ज़लें

हुए हैं जिसके चक्कर में ग़ज़लगो
उसी को लग रही बेकार ग़ज़लें

ग़ज़ल के रोग से बचकर के रहिए
करे हैं ठीक को बीमार ग़ज़लें

किसी के वास्ते दरिया सी गहरी
किसी के वास्ते पतवार ग़जलें

हमारी बात चाहो लिख के ले लो
करेंगी एक दिन यलग़ार ग़ज़लें

अगर बरसा सकें है फूल ग़ज़लें
उठा सकती हैं फिर तलवार ग़ज़लें

समझ आने लगी है धीरे धीरे
हमें भी 'मीर' की तहदार ग़ज़लें

@meer_yaar

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts