महज's image
Share0 Bookmarks 10 Reads1 Likes

महज इक रात की बात है,

फिर सूरज निकलेगा,

फिर सहर होगी,

फिर अंधेरें न रहेंगे,

फिर वो मुहब्बत की पहर होगी...

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts