दुःख's image
मै अपने दुःखों से 
प्रेम करता हूँ
इन्हे लगाए फिरता हूँ
अपनी छाती से
बिल्कुल वैसे ही
जैसे लगाए फिरती है
कोई बंदरिया अपने बच्चे को 

~ अर्पित मिसरा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts